Indian Railway main logo
खोज :
Increase Font size Normal Font Decrease Font size
View Content in English
National Emblem of India

हमारे बारे में

सामान्य जानकारी

यात्री सेवा

निविदाओं और अधिसूचनाएं

समाचार एवं अद्यतन

सतर्कता पोर्टल

हमसे संपर्क करें



 
Bookmark Mail this page Print this page
QUICK LINKS

माल भाड़ा विपणन परिचय भारतीय रेल जो राष्ट्र की जीवन रेखा है प्रतिदिन 500 मिलियन टन किमी माल भाड़ा परिवहन कर भारतीय अर्थव्यवस्था को बनाए हया है तथा 2004-05 के दौरान अभी तक का सबसे अधिक 600 मिलियन टन का परिवहन किया गया। माल भाड़ा में यह भारी बृद्धि तकनीकी उन्नयन परिचालन तकनीक में नवीकरण तथा वाणिज्यिक पद्वति में सुधार का परिणाम है ।

परिचय

देशकेजीवनरेखाभारतीयरेलप्रतिदिन 500 मिलियनटनभाड़े का परिवहान कर भारतीय अर्थ व्यवस्था को सुदृढ़ करती है। बर्ष 2004-05 के दौरान अभी तक का सबसे अधिक 00 मिलियन टन का परिवहन किया गया। भाड़ा परिवहन में यह भारी वृद्धि परिवहन तकनीक तथा वाणिज्यिक प्रणाली में प्रोद्योगिकी को उन्नत कर किया गया है। भारतीय रेल ने अर्थ व्यवस्था के पुनरुत्थान के लिए प्रयास करते हुए भाड़ा परिवहन में प्रभावशाली बृद्धि के लिए तत्पर है।

भारतीय अर्थव्यवस्था में बदलाव की परिस्थितियों को ध्यान में रखते हुए भारतीय रेल ने भी कई अभिनव योजनाएं अपनायी हैं तथा दह संरचना तैयार की है जो देश की तीव्रगति से विकसित होने वाले आर्थिक परिदृश्य के अनुकूल है। तदनुसार भारतीय रेल ने विभिन्न भाड़ा प्रोत्साहन योजनाएं एवं अभिनव मूल्य संरचना तैयारकी है जो आदरणीय उपभोक्ताओं की आव्श्यकता के अनुकूल हैं।

भारतीय रेल द्वारा प्रारंभ की गई प्रमुखप्रोत्साहन योजनाओं को इस बेवसाइट में सूचीबद्व किया गया है और हम आशा करते है कि यह सूचना उन उपभोक्ताओं के लिए उपयोगी होगी जो कच्चा माल या तैयार माल रेल के माध्यम से परिवहन करना चाहते है।

शार्ट लदि ट्रेफिक के लिए भाड़ा रियायत सभी वस्तुओं का केवल बहुत शार्ट लदि 90 किलोमीटर ल भाड़े का प्रभार एक योजनाके अधीन तक संगत बनाया गया है जो निम्नानुसार है।

डिस्टेंस स्लेब भाड़ा रियायत

1             -             50 कि.मी.50%

51           -             75 कि.मि.25%

76           -             50 कि.मि.10%

सभी सामग्रियों के लिए ट्रेन लोड श्रेणी 1,4,2003 से रेलों के द्वारा बड़ी मात्रा मे परिवहन के लिए सभी वस्तुओं को एक ट्रेन लोड श्रेणी आबंटित की गई है जों उनके वेगन लोड क्लास से एक स्तर नीचे है।
  • दो बिन्दु रेक के लिए ट्रेनलोड हितलाभ
  • पहले, दो बिंदु रेक को केवल  संचलनके काँमन पाईन्ट तक के लिए निम्नतर ट्रेन लोड का हित-लाभ दिया जाएगा। यह निश्चय कियागया है कि 1,4,2003 से दो बिन्दु ब्लाक रेक के प्रत्येक भाग  को उनके अनुरुप वास्तविक दूरी के परिवहनके लिए एक सिरे से दूसरे सिरे के आधार पर ट्रेन लोड दर का लाभ दिया जाएगा।
  • स्टेशनों के अनुमोदित युग्म को बुक किए गए दो बिंदु ब्लाक रेकों के लिए ट्रेन लेड श्रेणी को परिवहन की पुरी दूरी के लिए लागू किया गया है।
  • यहयोजना दक्षिण रेलवे परसभी सीमेण्ट तथा उर्वरक इकाइयोंके लिए लाभ प्रद होगी।

स्टेशनसेस्टेशनदर (एसटीएस)

  • नये परिवहन को आकर्षित करने के लिए तथा मौजुदा परिवहन को बनाये रखने के लिए यातायात की मात्रा तथा वस्तुओं पर निर्भर रियातन 10% से 24% तक है।
  • उपभोक्ताओं को स्थायी तथा बृद्विगत लाभ देने वली विशेष लाभकारी।
  • दो स्टेशनोंके बीच तथा प्रेषक/प्रेषिती के लिए।
  • वैगन लोड/ट्रेन लोड श्रेणी के लिए बुक किए गये ब्लाक सेक के लिए लागु ।

वित्तीय बर्ष 2004-05 मे, दक्षिण रेलवे ने यातायात के 14 प्रकारों के लिए स्टेशन से स्टेशन दर निर्धारित किये हैं।

कम से कम तीन माह के लिए तथा अधिक 12 माह के लिए निर्धारित किये जा सकतै हैं।

वित्तीय बर्ष 2004-05 मे, दक्षिण रेलवे ने यातायात के 14 प्रकारों के लिए स्टेशन से स्टेशन दर निर्धारित किये हैं।

स्टेशनों के स्टेशन दर (एस टी एस) के लिए आवेदन कैसे करें ।

इसमे रुची रखनेवाले ब्यक्ति निम्नलिखित ब्यौरा लिखकर उप मुख्य बाणिज्य प्रबंधक/(माल) भड़ा विपणन /चेन्नई को आवेदन कर सकतें हैः

  • तिमाही ब्यौरा के साथ मात्रा की सुपुर्दगी
  • रे द्वांरा पिछले तीन वर्ष का कार्य निष्पादन यदि हो तो
  • कार्य व्यापार की अवधि।
  • दोनों टर्मिनलों के लिए अतिरिक्त खर्च सहित सड़क दर तथा अनुरुप परिवहन ब्यय प्रस्तुत करें।
  • दोनों टर्मिनलों के लिए अतिरिक्त खर्च सहेत सड़क दर तथाअनुरुप परिवहन ब्यय प्रस्तुत करें।
  • रेल द्वारा यातायात करने हेतु वांछित रियायत का प्रतिशत ।

वैगन प्राइओरिटि रजिस्टर का रखरखाव इस योजना के तहत इंडेन्ट रजिस्टर के लिए उसी श्रेणी के प्राइओरिटि के अन्दर डीप्लस चिहन के साथ किया जायेगा ।

यह योजना दिनांक 01-04-2005 से 1 वर्ष के लिए प्रभावी रहेगा।

उदारीकृत साइडिंग नियम

भारतीय रेल परिचालन में ब्लाक रेक मुवमेंट के साथ साथ माल संचालन के यंत्रीकरण से अपार परिवर्त्तन हुआ है। इस पृष्ठाभूमि में रेलवे साइडिंग नियमको उदारीकृत किया गया है तथा रेलवे बोर्ड द्वारा निम्नलिखित नई दिशा निर्देश जारी किया गया है।

  •  नोडल एजेंसी

ग्राहक को सिंगल विन्डो सर्विस प्रदानकरने के लिए मुख्य यातायात यौजना प्रबंधक निर्माण स्तर तक का एवं साइडिंग चालू करने की सुचनादी जायेगी। मुख्य वाणिज्य प्रबंधक नोडल अधिकारी के रुप में भार संभालेंगे।

  • समय ढांचा

रेल प्रस्ताव के कार्यवाही हेतु निम्नलिखित समय ढांचा तय किये गये हैंछःमाहसे 1 बर्षतक, यहप्रोजेक्टकेआकारपरनिर्भरकरताहै रेलवे द्वारा सर्वक्षण किया जायेगा तथा कार्य का कार्यान्वयन रेल के निरीक्षण में होगा।जबसर्वक्षण सूचीवन्द्र सलाहकार द्वारा सर्वेक्षण के बाद कार्य का निरीक्षण किया जायेगा तथा योजना का दो माह के अन्दर स्वीकृत किया जाना तथा उसकी अंतिम स्वीकृति प्रोजेक्ट रिपोर्टका ब्योरासौपने के चार माह के भीतर होगा।

  • अतिरिक्त शुल्क में छुट

विभिन्न शुल्क जैसे विभागीय एवं फुटकर शुल्क आदि में भारी कमी की जायेगी।

  • पूंजीगत लागत

साइडिंग मालिका को नई सईडिंग के लिए अतिरिक्त बिजली खर्च साथ साथ प्रस्थान बिंदू से सईडिंग तक खर्च का वहन करना होगा यातायात सुविधाओं का भी पूंजी लागत जैसे वाई कनेक्शन सर्विग स्टेशन पर अतिरिक्त लाइने क्रसिंग स्टेशन सेक्शन का दोहरा मरंम्मत पूरी तरह रेल द्वारा की जायेगी।

  • गेज परिवर्त्तन की लागत

गेज परिवर्त्तन की लागत का वहन रेल तथा साइडिंग मालिक द्वारा किया जायेगा वशर्तेः-

जहां ये वित्तिय रूप से उचित नही होगा वहां सइडिंग मालिक इसका पूरा करेगा।

  • विद्युत लागत

विद्युतीकृत क्षेत्र में नई साईडिंग के लिए या जो क्षेत्र विद्युतीकरण हेतु मंजूर की गई है इसकी ओ एच ईके पूंजीगत लागत का वहन मालिक करेगा।वर्त्तमानसाइडिंग लागतका वहन रेल करेगीवशर्ते निश्चित हों।

  • कर्मचारी लागत

रेलवे सभी प्राईवेट साईडिंग में जो इंजीन अनलोड (ई ओ एल) के नहीं प्रत्येक पारी में एक वाणिज्यिककर्मचारी को छोड़कर सभीकर्मचारी काखर्च वहन करेगी । ई ओ एल साइडिंग के सभी कर्मचारीके खर्च वहन रेल करेगी।

गाड़ी लदान पर साइडिंग भाग प्राईवेट साइडिंग एक्सचेंज यार्ड से एवं उसकी ओर रनिंग थो होती है। ऐसे सईडिंग यार्ड के मध्यवर्त्तीं छोड़ तक मालभाड़ालगेग तथाकोई साइड़िंग भाड़ा नही लेगगा। फिर भी रेल लोकोमेटिव साइडिंग के भीतर शटिंग भाड़ा नियमानुसार लगेगी।

इंजन आँन लोड (ई ओ एल) योजना

उद्येश्यः

रालिंग स्टाक के उपयोग में सुधार लाने तथा अपना साइडिंग छोड़ से मालगाड़ी शीध्र खाली करवाने उदारीकृत इंजन आँन लोड योजना प्रारंभ कि गया है। इस योजना के तहत साइडिंग में लोडिंग आँनलोडिंग के समय हमेशा ट्रेन इंजन उपलव्ध रहेगा तथा गाड़ी के लोडिंग आँनलोड़िग पुरा होने बाद गाड़ी के शीघ्र संचालन हेतु रेल सेवा उपलव्ध रहेगा।

लोड (ई ओ एल) योजना मे इंजन की मुख्यविशेषतायएं

योग्यता

जो साइडिंग ............................................................................................

अनुज्ञेय फ्री टाइम

ई ओ एल के तहत लोडिंग आँनलोडिंग हेतु फी टाईम सामान्य फी टाईम से काम होगी । के समय

ई ओ एल के तहत लोडिंग आँनलोडिंग परिचालन निम्नलिखित के अनुसार अनुमति होगी।

परिचालन का प्रकार

भारी समय के लिए फी टाईम

वैगन प्रेषित माल के लिए फी टाईम

लोडिंग सभी प्रकार के वैगन अनलोडिंग

4 घंटे

5 घटें

1.भी ओ बी आर एन को छोड़कर सभी प्रकार के वैगन

4 घंटे

5 घंटे

2.बी ओ भी आर एन वैगन

2 घंटे

लागू मही है।

  • विलम्ब शुल्क (डैमरेज) के लिए डेविट/केडिट घंटे

वैगन रूकौनी के बिषय में डेविच/केडिट योजना पारंभ किया जायेगा।

डेबिट आवर्स ई ओ एल के तहत अनुज्ञेय फी टाइम से परे वैगन आवरके विषय मे रूकौनी सूचना देगी।

केडिट आवर्स ई ओ एल के तहत अनुज्ञेय फी टाइम संदर्भ से जुड़े बैगन आवर्स को सूचित करेगी। इस माह में हूए शुद्ध डेविड केडिट उपर्जित को तिमाही के आधार पर डैमरेज चार्ज उगाही हेतु आगे बढ़ाया जाता है।

  • इंजन भाड़ा से छूट

यदि साइडिंग मालिक फी टाइम के भीतर रेक के लोडिंग अनलोडिंग के दौरान रेल इंजन का उपयोग करता है तो उक्त के लिए कोई अतिरिक्त भाड़ा नही लगेगा। इसलिए साईडिंग मालिकको ई ओ एल परिचालन के तहत अपने लागत से इंजन कि कोई आवश्यकता नही है।

  • साइडिंग खर्च देने से छूट

बाल्ब टाइप साइडिंग कें लिए मालभाड़ा खर्च विशिष्ट लोडिंग या आँनलोडिंग प्वाईट तक थो डिस्टेंसके आधार पर लगाया ज ना कि सइडिंग की पूरी लम्बाई के लिए।साइडिंग के भीतर इंजन आँन लोड आपरेशन के तहत वैगनो के वहन के लिए कोई साइडिंग/संटिंग खर्च नही लगेगा।

  • रेल कर्मचारी के खर्च से छूट

रेल ई ओ एल योजना के तहत साइडिंग परिचालित जगह पर नियुक्त किये गए सभी रेल कर्मचारी का पूरा खर्च बहन करेगी।

यह सुनिश्चित किया जानाचाहिए कि रेल कार्मीदल को समय पर सहायता सहित सभी व्यवस्थाएं ई ओ एल साइडिंग मे उपलब्ध कराए।

वैगन निबेश योजना(जबल्यू एस)

  • उद्येश्यः

वैगन प्रबंधन में प्राईवेट- पब्लिक भागीदारी को प्रोत्साहित करने के लिए वेगन निवेशक योजना (डबल्यू आई एस) प्रारंभ किया गया।

योग्यताः ..................................................................................................

     लाभ

  1. प्रत्येक माह प्रत्याभूत संस्था में रेकों का सुनिश्चित आपूर्त्ती।
  2. विनिर्दिष्ट अवधि के लिए माल भाड़ा में कमी।
  3. बिना रियातन/शस्ति बोनस रेक।
  4. निवेशक जो इंजन आँनलोड (ई ओ एल) स्कीम पसंद करते हैं । इसके लिए बिना रियायत/शस्ति के अतिरिक्त रेक ।
  5. कोई अनुरक्षण शुल्क देने की जरुरत नहीं है।
  • प्रकिया

रेल मंत्रालय द्वारा अनुमोदित भारतीयरेल मानक (आई आर एस)अभिकल्य विनिर्देश एवं निरीक्षण के अनुसार सीधे निर्मातासे किया जायेगा। वैगनें की कोई भी संस्था लोड यूनिट में निजी होगा वशर्ते कम से कम एक रेक हो तथा 4 प्रतिशत अतिरिक्त वेगन हो।

मुरूय पारामीटर सार निम्नलिखित है

मालभाड़ा छूट

बी सी एन रेक

बी सी एक्सएन रेक

अनलोडिंग

10%

10%

छूट की अवधि

15 वर्ष

10 वर्ष

छूट की अवधि

4 रेका प्रति माह

6 रेका प्रति माह

वोनसः बिना मालाभाड़ा छूट या शस्ति के रेकों की अतिरिक्त प्रत्यांभूत से।

(क)बिना इंजन आँन लोड(ई ओ एल)

2 रेक प्रति माह

2 रेक प्रति माह

(ख)इंडन आँनलोड (ई ओ एल) सहित

4 रेक प्रति माह

4 रेक प्रति माह

छोटे एवं खुदरा व्यापारियों के लिए प्रोत्साहन

छोटे एवं खुदरा व्यापारियोंको प्रोत्साहित करने के लिए 12 प्रेषण तक क्लबिंग की अनुमति है। ब्राडगेज में अभी अभी प्रेषण सीमा से 8 व्हीलर बैगन होगा।

प्रत्येक अतिरिक्त रेल रसीद के लिए 100/- रुपये अदा करना होगा।

छोटे एवं खुदरा व्यापारियोंद्वारा इसयोजनाकी मांग लंबे समयसे थी। इससे शिवकासी से चलने वाले पटाकेव्यापारियों का बिशेष लाभ होगा। यह छोटे किसानों एवं उद्यामियों जो एरोड, कोयम्बुटुर, सलेम, आदि क्षेत्र में है और जो व्यक्तिगत रुप से काँटन सीड कोयेर आदि सामग्री को बेगन लेड कराने में अक्षम है वे भी इससे लाभ उठायेंगे।खुले वैगनों में व्यापार पर ब्लाक रेकों में सिमेंट और रासायनिकखाद व्यापार के लिए माल भाड़ा में 10% की छूट दी जायेगी।

10% रियायत खुले बैगनों मे
पब्लिक-प्राईवेट साझेदारी से रेल-साईड सुविधा प्रारंभ करना
उद्येश्य
उस योजना का उद्येश्य है प्रतियोगी मूल्य पर सीवनहीन दरवाजे-से-दरवाजे सेवा प्रदान कर इंटर मोडलिटी प्रोत्साहन हेतु उपल्ब्ध कराना------------------------------------
  1. कौनआवेदानकरसकतेहैं
  2. किसे आवेदन करेः आवेदन संबंधित जाँनल रेल के मुख्य वाणिज्य प्रबंधक को जमा करें।
  3. गोदाम के लिए जगहः गोदाम बनाने के प्रस्ताव पर विचार इस स्थान के लिए किया जाएगा जहाँ।
प्रियम रजिस्ट्रेशन योजना
उद्वेश्यः यह योजना रेल उपभोक्ताओं की मांग पूरा करने के लिए नाम प्रोगान्ड ट्रैफिक हेतु बैगनों की शीध्र आपूर्ति के लिए बनाया जाता है।
मुख्य विशेषताएः
  • प्राइआँरिटि डी ट्रैफिक के तहत नाँन प्रोग्रान्ड ट्रैफिक के लिए लागु
  • उसी क्षेणी के अग्रता के अन्य ट्रैफिक को वरीयता दी जाएगी।
  • जी प्रेषक इस योजना को पसंद करते है उन्हें विशेष सामग्री के लिए निर्धारित क्षेणी से दो श्रेणी अधिक का भाड़ा देना होगा।

39 का 

भूमि की व्यवस्था

जैसे कि रेल टर्मिनल पर ही उपभोक्ताओं को मूल्य आधारित एकल खिड़की प्रणाली सेवा प्रदान करने के लिए भंडारण व्यवस्थाका विचार किया गया है अतः भण्डारण के लिए भूमि की व्यवस्थारेल द्वारा की जाएगी। एसी भूमि को भंडारण के लिए निर्दिष्ट करते हुए रेलवे की अपनी दीर्घ अवधि की भविष्यकी आवश्यकताओं को ध्यान में रखा जाएगा। भूमि का क्षेत्रफल गारण्टी किए गए यातायातके न्यूनतम स्तर सेसीधा सम्बंधित होना चाहिए।

लीज अनुबंध की अवधि

लीज अनुबंध की अवधि 30 वर्ष होगी जिसे संतोषप्रद निष्पादन होने पर रेल तथा प्रमोटर के बीच परस्पर तय की गई शर्तो तथा अनुबंध के आधार पर बढ़ाया जा सकता है।

लाइसेंस फी

जैसे कि इस योजना के पीछे रेल यातायात बढ़ाने की मंसा तथा राजस्व अर्जित करना है अतः रेलवे प्रतिवर्ष प्रति वर्ग मीटर रू 1- की नाम मात्र की लाइसेंस फीस लेगी।

माल चढ़ाने उतारने की सुविधा

सुचारू रूप से कार्य करने के लिए टर्मिनल पर माल चढ़ाने तथा उतारने की सुविधा का विकास प्रमोटर द्वारा किया जाएगा।

निशुल्क समय

रेल नियमों के अनुसार माल चढ़ाने तथा उतारने के लिए समय दिया जाएगा। इस प्रणाली के अधीन कोई घाट प्रभाव नही लिया जाएगा।

रेल भंडार ग्रहों को सुचारू रूप से चलाने के लिए रेल विभाग अपेक्षित रेल गाड़ियों से सम्बद्व करने की दक्ष व्यवस्था करेगा। भंडारण गृहों के नजदीक मौजूदा रेल टर्मिनल पर दक्ष लदान/उतारने की सुविधा का विकास प्रमोटर के द्वारा किया जाएगा।

रेल यातायात का निष्पादन

प्रमोटर को रेल यातायातको प्राथमिक देना आवश्यक है। लीज अनुबंध की यह एक शर्त है कि प्रमोटर को भंडार गृह का 10% स्थान रेल यातायात के लिए निर्दिष्ट करना होगा।

सम्पर्कः
उपर्युक्त सभी योजनाओं तथाप्रोत्साहन के संबंध में और आधिक जानकारी तथा विवरण के लिए कृपया निम्नलिखित अधिकारियों से सम्पर्क करेः
  • मुख्य वाणिज्य प्रबंधक, मुख्यालय ,पू,सी,रेल. गुवाहाटी- 1
  • मुख्य परिचालन प्रबंधक, मुख्यालय, पू,सी, रेल, गुवाहाटी- 11
  • मुख्य भाड़ा परिवाहन प्रबंधक, मुख्यालय,पू, सी, रेल, गुवाहाटी-11
  • उप मुख्य वाणिज्य प्रबंधक, भाड़ा विपणन,पू, सी,रेल, गुवाहाटी-11
  • वरिष्ठ वाणिज्य प्रबंधक/दर, मुख्यालय,पू, सी, रेल , गुवाहाटी-11
  • वरिष्ठ वाणिज्य प्रबंधक/विपणन एवं विकय,पू,सी, रेल, गुवाहाटी-11




Source : Welcome to North East Frontier Railway / Indian Railways Portal CMS Team Last Reviewed on: 10-02-2011  


  प्रशासनिक लॉगिन | साईट मैप | हमसे संपर्क करें | आरटीआई | अस्वीकरण | नियम एवं शर्तें | गोपनीयता नीति Valid CSS! Valid XHTML 1.0 Strict

© 2010  सभी अधिकार सुरक्षित

यह भारतीय रेल के पोर्टल, एक के लिए एक एकल खिड़की सूचना और सेवाओं के लिए उपयोग की जा रही विभिन्न भारतीय रेल संस्थाओं द्वारा प्रदान के उद्देश्य से विकसित की है. इस पोर्टल में सामग्री विभिन्न भारतीय रेल संस्थाओं और विभागों क्रिस, रेल मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा बनाए रखा का एक सहयोगात्मक प्रयास का परिणाम है.